Monday, August 4, 2014

"जिस दिल में तुम्हारी चाह होगी
  मिलने के लिए राह बना ही लेगा
 क्या बैठना उसके सामने जिसके
 दिल के तुम तलबगार ही नही "

2 comments: