Monday, February 10, 2014

"हमारी ही नींदे चुरा कर क्यों वो
 अब हमारे ही ख़वाब देखते हैं "

1 comment:

  1. इस माह मे सब बौराये मिलते हैं

    ReplyDelete