Friday, September 28, 2012


"दिन  भर  उनकी  बातों को बार - बार  याद करते हैं हम और रात में इस इरादे से
  जल्दी सो जाते हैं की आज खवाबों में ही शायद उनका दीदार  हो जाए "

No comments:

Post a Comment