Tuesday, August 23, 2011

''उनसे मोहब्बत के सिलसिले जो शुरू हुए
आँखों ने नये सपने देखने शुरू किये
क्या होगा अंजाम यह सोचकर अब डरता है दिल,
पर दूसरे ही पल फिर उसे याद कर उससे
मिलने की चाह में मचलता है दिल ''

2 comments:

  1. yahi to moh..a..batt......hai......bahut hi badhiya expression hai ...meenakshi jee ..

    ReplyDelete